LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

रविवार, 24 जनवरी 2010

नवोदय/ पीयूष शर्मा ‘पारस’ की कविता

जमाने को लगी हवा जमाने की

फितरत बदल गई जमाने के साथ इस जमाने की
पहले थी कुछ और मगर अब है और बात जमाने की।

ना वो प्यार है ना मिठास है अब इस जमाने में
बस रह गई हैं सिर्फ और सिर्फ बातें उस जमाने की।

कुछ ऐसी चली हवा कि बदल गई सब रीतें
ना दुआ ना सलाम पैसे में बदली प्रीत जमाने की।

वक्त ने बदले हालात तो आई याद उस जमाने की
कि लग गई हो जैसे नजर उस जमाने को इस जमाने की।


(श्री पीयूष शर्मा पारस दैनिक भास्कर चूरू में बतौर रिपोर्टर कार्यरत हैं।)

2 टिप्‍पणियां:

  1. पीयूष जी, इस खूबसूरत कविता के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई....
    निरंतरता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  2. पीयूष रचनात्‍मक गुणवता के साथ आगे बढ़े, मेरी शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं